फर्श पर सो रहे बच्चों के मामले: नोबेल विजेता सत्यार्थी की संस्था ने डीसी को लिखा पत्र, कहा- अस्पताल में बच्चों का भी रखें ख्याल


धनबादएक मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

भास्कर में प्रकाशित इस खबर पर बचपन बचाओ आंदोलन ने लिया संज्ञान

जिले के सबसे बड़े अस्पताल एसएनएमएमसीएच में फर्श पर सो रहे बच्चों के मामले में बचपन बचाओ आंदोलन संस्था ने संज्ञान लिया है। भास्कर के धनबाद संस्करण में शुक्रवार को प्रकाशित समाचार और तस्वीर को समाजसेवी अंकित राजगढ़िया ने संस्था के प्रमुख व नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी को ट्वीट कर इससे अवगत कराया था।

ट्वीट पर सत्यार्थी ने सकारात्मक कदम उठाने का भरोसा दिया। इसके बाद बचपन बचाओ आंदोलन के झारखंड को-ऑर्डिनेटर ब्रजेश कुमार मिश्र ने धनबाद डीसी को पत्र लिख ऐसी स्थिति में अस्पताल में बच्चों की सुरक्षा व सुविधा का इंतजाम करने का आग्रह किया है। बतातें चलें कि भास्कर के गायनी वार्ड के पास दो बच्चों की फर्श पर सोने की तस्वीर प्रकाशित की थी।

दूसरी तस्वीर के लिए जरिए यह भी बताया था कि उसी वार्ड में एक बेड पर कई गद्दे यूं ही पड़े हैं, परंतु बच्चों को उपलब्ध नहीं कराए गए। ऐसी स्थिति बच्चों के लिए ठीक नहीं कही जा सकती है। वहीं मामले में अस्पताल अधीक्षक डॉ अरुण कुमार चौधरी का कहना है कि अस्पताल मरीजों के लिए है। अटेंडेंट के लिए इंतजाम करना आसान नही है।

खबरें और भी हैं…



Supply hyperlink

0Shares

Leave a Reply